ताज़ादुनियान्यूज़मनोरंजनराष्ट्रीय

कोरोना का भय खेलों के अभ्यास पर भारी, स्टेडियम आने से डर रहे खिलाड़ी

इंडोर स्टेडियम में ही चल रहा कोरोना जांच एवं टीकाकरण केंद्र

धनबाद (झारखण्ड) : धनबाद जिले में वैश्विक महामारी कोरोना का असर भले ही कम या नहीं का बराबर रह गया है, लेकिन इसका बुरा प्रभाव खेल और खिलाड़ियों पर बुरी तरह से पड़ा है। इसका असर यह कि अब भी खिलाड़ियों को अभ्यास करने के लिए मैदानाें और स्टेडियम आने से रोक रहा है। इसकी बानगी शहर के एकमात्र इंडोर स्टेडियम में देखी जा सकती हैं, जहां बैडमिंटन की प्रैक्टिस करने आ रहे बच्चे कोरोना संक्रमित होने के डर से नहीं आ रहे। इसका कारण है कैंपस में ही कोरोना जांच केंद्र का भी संचालन होना। रोजाना सैकड़ों स्वाब जांच के लिए वाहनों से यहां लाये जाते हैं। गौरतलब है कि कमिटी भी कोरोना जांच केंद्र को स्टेडियम से हटा कहीं और स्थानांतरित करने की मांग जिला प्रशासन से कर चुकी है। पिछले 21 अगस्त को उपायुक्त के द्वारा जांच केंद्र हस्तांतरित करने का आदेश भी जारी किया जा चुका है। बावजूद अब तक स्थिति जस-की-तस है। आगामी 22 से 24 अक्टूबर से हजारीबाग में होने जा रहे स्टेट जूनियर (अंडर-19) बैडमिंटन चैम्पियनशिप की तैयारी में खिलाड़ी जी-जान से प्रैक्टिस में जुटे हैं।

हीरापुर के रहनेवाले मुकेश कहते हैं कि वह यहां रोजना आते थे। लेकिन कोरोना के कारण पिछले एक साल से आना बंद कर दिया था। इधर कुछ दिनों से हिम्मत कर जाने लगा था। लेकिन फिर स्टेडियम के बाहर कोविड-19 की मोबाइल टेस्टिंग लेबोरेटरी की गाड़ी खड़ी देख अब जाने से परहेज कर रहा हूं। केवल मैं ही नहीं, यहां आनेवाला हर खिलाड़ी अब स्टेडियम आने-जाने के दौरान खुद को असुरक्षित महसूस कर रहा है।

रोजाना बैडमिंटन की प्रैक्टिस करने इंडोर स्टेडियम आ रही इप्शिता जायसवाल ने भी कुछ इसी तरह अपनी परेशानी बयां की। उसने बताया कि स्टेडियम के बाहर मोबाइल टेस्टिंग गाड़ी खड़ी रहने से काफी ज्यादा असुरक्षित महसूस करते है। उन्होंने बताया कुछ ही दिनों में टूर्नामेंट भी शुरू होने जा रहा है। ऐसे में प्रैक्टिस भी उतना ही जरूरी है। हम बच्चों की मांग है कि जल्द से जल्द कोरोना जांच केंद्र को स्टेडियम से हटाया जाए। एक अन्य ने बताया कि टेस्टिंग के लिए स्वाब लाने ले जाने का कार्य चलता रहता है। इस परिस्थिति में स्टेडियम आने जाने में परेशानी हो रही है। संक्रमण के खतरे से बचने के लिए अब स्टेडियम के पीछे के रास्ते से आना जाना करना पड़ रहा है।

 

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker