ताज़ान्यूज़राष्ट्रीयशिक्षा

“गांधीजी की यादों को अक्षुण्ण रखने के लिए झारखंड तत्पर”

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र की ओर से 'झारखंड में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी' विषय पर ऑनलाइन व्याख्यान का आयोजन

रांची (झारखण्ड) : इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र, क्षेत्रीय शाखा रांची द्वारा आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम के तहत शनिवार को गांधी जयंती के उपलक्ष्य में ‘झारखंड में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी’ विषय पर ऑनलाइन व्याख्यान का आयोजन किया गया। व्याख्यान में बतौर मुख्य वक्ता प्रख्यात गांधीवादी भैरव लाल दास उपस्थित रहे। व्याख्यान की अध्यक्षता अंग्रेजी एवं यूरोपियन भाषा विभाग, लखनऊ विश्वविद्यालय की आचार्य डा. मधु सिंह ने की। इगारा कला केंद्र के क्षेत्रीय निदेशक डॉ. कुमार संजय झा द्वारा कार्यक्रम का समन्वयन किया गया।

डॉ. कुमार संजय झा ने कहा कि महात्मा गांधी की यादों को हमेशा के लिए अक्षुण्ण रखने के लिए झारखंड तत्पर है। गांधीजी का वर्तमान झारखंड से अत्यंत अपनत्व भाव था। वर्ष 1917 से 1940 के बीच गांधीजी का कम से कम 12 बार झारखंड में आगमन हुआ और उस दौरान टाना भगत के जीवन दर्शन एवं उनकी संस्कृति से काफी प्रभावित हुए। गांधीजी ने यह भी स्वीकार किया कि टाना भगतों ने भारत को एक नई राह दिखाई है। टाना भगतों ने सनातन धर्म के प्रमुख अवयवों का अंगीकार किया। उन्होंने कहा कि गांधीजी ने कई अवसरों पर आदिवासी संस्कृति में व्याप्त मानव कल्याण के तत्वों की प्रशंसा की है। रामगढ़ कांग्रेस के अति महत्वपूर्ण राजनीतिक कार्यों को छोड़कर गांधीजी आदिवासियों से मिलने के लिए बीरो निकल पड़े थे। भारत में टाना भगत ही ऐसा समुदाय है, जो गांधीजी के आदर्शों के अनुकूल ही जीवन व्यतीत करता है। सत्य, अहिंसा, कर्मयोग, ज्ञानयोग एवं धार्मिक आचरणों के प्रति इन आदिवासियों का झुकाव है।

व्याख्यान के दौरान प्रो. मधु सिंह ने कहा कि गांधीजी के विचारों को राष्ट्रीय एवं सामान्य जीवन स्तर पर प्राथमिकता मिलनी चाहिए। गांधीजी ऐसे नायकों में गिने जा सकते हैं, जिनमें अहिंसा, प्रतिरोध, सभ्यता एवं शांति से विकास की अवधारणा तक का विकल्प देने की संभावना निहित है। कार्यक्रम का समापन इगारा कला केंद्र के परियोजना सहायक डॉ. मनोज कुमार द्वारा धन्यवाद प्रस्ताव से हुआ। कार्यक्रम में अंजनी कुमार सिंह, बोलो उरांव एवं विकास कुमार भी उपस्थित थे।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker