ताज़ादुनियान्यूज़राष्ट्रीय

पुरी : दुनियाभर में सबसे बड़ी और अनोखी है श्री जगन्नाथ मंदिर की रसोई

महाप्रसाद बनाने में 500 रसोईया और 300 सहयोगी करते हैं 752 चूल्हों का प्रयोग

रसोई में 56 प्रकार के बनते हैं भोग, शक्कर की जगह गुड़ का होता है प्रयोग

सारा प्रसाद मिट्टी की 700 हांडियों में पकाया जाता है, लहसुन-प्याज का प्रयोग वर्जित

आठ लाख लड्डू एकसाथ बनाने पर इस रसोई का नाम गिनीज बुक में भी दर्ज हो चुका है

पुरी (ओड़िशा) : ओड़िशा राज्य के पुरी में स्थित भगवान श्री जगन्नाथ मंदिर की रसोई दुनिया में सबसे बड़ी है। एक एकड़ भूभाग में फैली 32 कमरों वाली इस विशाल रसोई में भगवान श्री जगन्नाथ को चढ़ाये जानेवाले महाप्रसाद को तैयार करने के लिए 752 चूल्हे इस्तेमाल में लाए जाते हैं और लगभग 500 रसोईया तथा उनके 300 सहयोगी काम करते हैं। सारा प्रसाद मिट्टी की 700 हांडियों में पकाया जाता है। भोग पूरी तरह शाकाहारी होता है। मीठे व्यंजन तैयार करने के लिए यहाँ शक्कर के स्थान पर अच्छे किस्म का गुड़ प्रयोग में लाया जाता है। आलू, टमाटर और फूलगोभी का उपयोग मन्दिर में नहीं होता। भोग में प्याज व लहसुन का प्रयोग निषिद्ध है।

यहाँ रसोई के पास ही दो कुएं हैं, जिन्हें ‘गंगा’ व ‘यमुना’ कहा जाता है। केवल इनसे निकले पानी से ही भोग का निर्माण किया जाता है। इस रसोई में 56 प्रकार के भोगों का निर्माण किया जाता है। रोज कम से कम 10 तरह की मिठाइयाँ बनाई जाती हैं। आठ लाख लड्डू एकसाथ बनाने पर इस रसोई का नाम गिनीज बुक में भी दर्ज हो चुका है। रसोई में एक बार में 50 हजार लोगों के लिए महाप्रसाद बनता है। मन्दिर की रसोई में प्रतिदिन 72 क्विंटल चावल पकाने का स्थान है। प्रतिदिन नये बर्तन ही भोग बनाने के काम आते हैं।

सर्वप्रथम भगवान श्री जगन्नाथ को भोग लगाने के पश्चात भक्तों को प्रसाद दिया जाता है। भगवान श्री जगन्नाथ को दिन में छह बार महाप्रसाद चढ़ाया जाता है। रथयात्रा महोत्सव के दिन एक लाख़ चौदह हज़ार लोग रसोई कार्यक्रम में तथा अन्य व्यवस्था में लगे होते हैं। जबकि 6000 पुजारी पूजा-विधि में कार्यरत होते हैं। यहाँ भिन्न-भिन्न जातियों के लोग एकसाथ भोजन करते हैं, जात-पात का कोई भेदभाव नहीं रखा जाता।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker