ताज़ादुनियान्यूज़राष्ट्रीय

बजबजाती नालियां, कच्ची सड़कें, इलाके में क्रशर चलने से ज्यादा है प्रदूषण

बजबजाती नालियां, कच्ची सड़कें, इलाके में क्रशर चलने से ज्यादा है प्रदूषण

तुपुदाना,(झारखंड):रांची नगर निगम के सबसे अंतिम वार्ड 53 में जागरण आपके द्वार की टीम पहुंची। इस वार्ड में समस्याएं ही समस्याएं हैं। चोक नालियां, सड़कों पर कीचड़, बिजली के पोल लगे हैं पर तार नदारद। बिजली कब आएगी पता नहीं। पेयजल की भयंकर समस्या। शिकायत के बाद भी कोई सुनवाई नहीं। बरसात में तो वार्ड की हालत और खराब हो गई है।

रांची नगर निगम के वार्ड 53 का इलाका रांची खूंटी मुख पथ के किनारे है। मुख्य सड़क को देखने से लगता है कि यह बिल्कुल शहर जैसा है। लेकिन मोहल्लों में प्रवेश करने पर नारकीय स्थिति दिखती है। वार्ड 53 का क्षेत्र काफी बड़ा है। इसी इलाके में गणेश मोहल्ला, मानसरोवर कॉलोनी, बसारगढ़, चाणक्यपुरी, तुपुदाना बस्ती, नायक टोली, बड़ बखरी, छोट बखरी, वैष्णवी बिहार, ओम प्रकाश नगर, शांति नगर, रामनगर, मिलन चौक, सतरंजी, नेपाली कॉलोनी, देवी मंडप, बगीचा टोली, डाढ टोली, कुमबा टोली, बेरमाद ,जोजो सिरिग, बालसिरिग शामिल हैं।

स्वर्णरेखा नदी के ऊपर बने पुल के बाद से शुरू होता है वार्ड 53 का इलाका। पहले गणेश मोहल्ला पड़ता है। यहां मजदूरों एवं कुछ जमीन कारोबारियों ने सड़क किनारे जमीन का अतिक्रमण कर अपना बसेरा बना लिया है। कारोबारियों ने दुकाने और शोरूम आदि बनाकर भाड़े पर लगाया है। इलाके में पानी की टंकी तो लगी है। लेकिन बिजली की स्थिति खराब है। गणेश नगर मोहल्ला में नगर निगम के द्वारा अब तक सड़क का निर्माण नहीं किया गया है। कुछ आगे बढ़ने पर पॉश इलाका मानसरोवर कॉलोनी है। यहां वर्षों पहले सड़क बनी थी। अभी जर्जर अवस्था में है। सफाई प्रतिदिन नहीं होती।

देवी मंडप इलाके में सबसे बड़ी समस्या पीने के पानी की है। 1000 से 1200 फीट बोरिंग पर भी पानी नहीं मिलता। कई लोगों ने वहां से अपने मकान को छोड़कर दूसरी जगह घर बना लिया है। जिनके पास कोई चारा नहीं है वे लोग सुबह से ही पानी के इंतजाम में लगे रहते है। दूर-दूर से साइकिल ऑटो में पानी ढोकर लाते हैं ।आगे बढ़ने पर तुपुदाना चौक है। राजधानी के एकदम नजदीक और रांची खूंटी मुख्य मार्ग पर व्यस्त रहने वाला चौक है। सड़क किनारे सफाई प्रतिदिन हो जाती है लेकिन मुख्य सड़क के बाद मोहल्लों में सफाई नहीं होती है। कचरा उठाने वाली नगर निगम की गाड़ी भी वहां तक नहीं पहुंचती । बगल में शांति नगर में पीसीसी सड़क है लेकिन पुरानी बस्ती पुराना नायक मोहल्ला में सड़कें नहीं हैं। इसी तरह नामकुम रोड में कच्ची सड़क से ही लोग आना जाना करते हैं।

क्रशर फैलाते हैं प्रदूषण : वार्ड 53 में बड़ी संख्या में क्रशर चलने के कारण यहां प्रदूषण अधिक है। वार्ड पार्षद के आवास के समीप ही बेरमाद पहाड़ पर क्रशर चलता है जिससे प्रदूषण फैलता है। बगल में ही स्कूल है। उसके बावजूद बेधड़क क्रशर चलते हैं। राज्य सरकार ने जब मामले का संज्ञान लिया तो 15 दिन पहले खनन विभाग के द्वारा अवैध रूप से चल रहे क्रशरों को सील किया गया है।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker