टेक ज्ञानताज़ादुनियान्यूज़राष्ट्रीयशिक्षा

बीआईटी सिंदरी को पांच ब्रांच में एनबीए से मिली मान्यता

दो विषयों को पहले ही एनबीए से मिली हुई है मान्यता, अब जाएंगे सात विषय

बीआईटी सिंदरी के छात्रों को जॉब के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मिलेंगे अवसर

धनबाद (झारखण्ड) : नेशनल बोर्ड आफ एक्रेडिएशन (एनबीए) ने बीआईटी सिंदरी के पांच ब्रांच को एक साथ मान्यता दी है। एनबीए के मेंबर सेक्रेटरी ने बीआईटी सिंदरी को भेजे ईमेल में बीआईटी सिंदरी के सिविल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिकल इंजिनियरिंग, केमिकल इंजीनियरिंग, मेकेनिकल इंजीनियरिंग और मेटलर्जिकल इंजीनियरिंग को मान्यता देने की सूचना दी है। एनबीए की तीन सदस्यीय टीम इसी वर्ष 20 से 22 अगस्त को बीआईटी सिंदरी के दौरे पर आयी थी। इस टीम ने अपनी रिपोर्ट एनबीए की मान्यता के लिए संबंधित समिति को सौंप दी थी। बीआईटी सिंदरी में पहले से खनन अभियंत्रण विभाग और प्रोडक्शन अभियंत्रण विभाग को एनबीए ने मान्यता दे रखी है। इस तरह अब बीआईटी के सात विषयों को एनबीए से मान्यता मिल गई है। बीआईटी सिंदरी के निदेशक डा डीके सिंह ने बताया कि एनबीए की मान्यता से बीआईटी सिंदरी के छात्रों को जाब के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर काफी अवसर मिलेगा। भारत का एनबीए वाशिंगटन के अनुरूप है। इसलिए यहां के छात्रों को अब देश और विदेश की नामी गिरामी कंपनियां अपनी प्राथमिक सूची में रखेंगी।

अमेरिकी पाठ्यक्रम के समकक्ष होगा बीआईटी सिंदरी के सात ब्रांच

एनबीए से मान्यता मिलने के बाद अब बीआईटी सिंदरी के सातों ब्रांच अमेरिकी पाठ्यक्रम के समकक्ष होंगे। पाठ्यक्रम को मान्यता मिलना संस्थान को दूरगामी परिणाम देगा। संस्थान से मिलने वाली तकनीकी शिक्षा की गुणवत्ता के कारण यह संभव हो सका है। बीआईटी प्रशासन के अनुसार पाठ्यक्रम को मान्यता मिलने से यहां से उत्तीर्ण स्नातकों को अमेरिका और इंग्लैंड सहित विभिन्न देशों के पाठ्यक्रमों के समकक्ष समानता मिलेगी। मान्यता दिलाने में भारत एवं अमेरिका के सोसायटी फॉर माइनिंग मेटलर्जी एंड एक्सप्लोरेशन (एसएमई) का महत्वपूर्ण योगदान रहा। अब बीआईटी के छात्र विदेशी संस्थानों में एकेडमिक जरूरतों को पूरा करने के लिए तकनीकी रूप से दक्ष होंगे। रिसर्च के क्षेत्र में यह महत्वपूर्ण कदम साबित होगा। बीआईटी सिंदरी के खनन के छात्रों को एक नया एक्सपोजर प्राप्त होगा। छात्रों को कई तरह की केस स्टडीज और शोध के क्षेत्र में अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिलेगा। इसके लिए छात्रवृत्ति भी मिलेगी।

मानकों पर खरा उतरने के बाद ही मान्यता

एनबीए एक स्वायत्त संस्थान है। यह समय-समय पर तकनीकी संस्थानों और पाठ्यक्रमों का मूल्यांकन अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के मानक के अनुरूप करता है। मान्यता प्रक्रिया के अंतर्गत एनबीए की विशेषज्ञ टीम संस्थान का दौरा कर विभागों का मूल्यांकन भी करती है। मूल्यांकन में विभिन्न मानकों को शामिल किया जाता है। इसमें लैब, वर्कशॉप, लाइब्रेरी, शैक्षणिक गतिविधि छात्र और प्राध्यापक इंट्रेक्शन और अन्य सुविधाएं शामिल हैं। मानकों पर खरा उतरने के बाद ही मान्यता मिलती है।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker