ताज़ान्यूज़

राजनगर में ट्रैक्टर की चपेट में आकर सहिया समेत दो लोगों की मौत

हाता-चाईबासा मुख्य मार्ग पर तेलाई स्थित पूनम होटल के पास हुआ हादसा

वैक्सीन का दूसरा डोज लेने लोधा पीएचसी जा रहे थे दोनों

हादसे के बाद पलटा ट्रैक्टर, चालक फरार

सरायकेला (झारखण्ड) : हाता-चाईबासा मुख्य मार्ग एनएच 220 पर रविवार को तेलाई स्थित पूनम होटल के पास सुबह लगभग 11 बजे एक अनियंत्रित ट्रैक्टर ने दो लोगों को रौंद डाला और ट्रैक्टर सड़क के नीचे झाड़ियों में जा पलटा। हादसे में बाइक पर सवार एक महिला और युवक की मौत हो गई। महिला की मौत मौके पर हुई जबकि युवक ने अस्पताल पहुंचते ही दम तोड़ दिया। घटना में मृत महिला की पहचान राजनगर सीएचसी में सहियासाथी के रूप में कार्यरत देवी जोजो (44) के रूप में हुई। वह रंगामटिया गांव की रहने वाली थी। जबकि युवक की पहचान थाना क्षेत्र के गेडेसाई निवासी शम्भू गोप के पुत्र मनोज गोप (24) के रूप में हुई। पुलिस ने दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए सरायकेला भेज दिया। इधर पुलिस ने दुर्घटनाग्रस्त ट्रैक्टर और बाइक को जब्त कर लिया है। घटना के बाद ट्रैक्टर चालक मौके से फरार हो गया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार युवक मनोज गोप अपने घर से वैक्सीन का दूसरा डोज लेने लोधा गांव में स्थित पीएचसी जा रहा था। मनोज गोप अपने साथ उसकी फूल मां देवी जोजो को रंगामटिया से साथ में लेकर गया। दोनों बाइक (जेएच06बी-3948) पर सवार थे। इस दौरान दोनों केशरगाड़िया में स्वाति हेम्ब्रम के यहां भी कुछ देर रुके थे। स्वाति हेम्ब्रम और देवी जोजो काफी अच्छे दोस्त हैं। स्वाति हेम्ब्रम भी सीएचसी राजनगर में सहियाओं को प्रशिक्षण देने का काम करती है। कुछ सहियाओं ने बताया कि देवी जोजो इस दौरान स्वाति के यहां रुकना चाह रही थी। परंतु मनोज के जिद करने पर वह वैक्सीन दिलाने उसके साथ चली गई, लेकिन केशरगाड़िया से महज दो ढाई किलोमीटर ही चले थे कि दोनों को ट्रैक्टर ने पूनम होटल के पास अपनी चपेट में ले लिया।

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक लोधा गांव से मुख्य मार्ग निकलने वाली सड़क से एक खाली ट्रैक्टर अचानक मुख्य मार्ग पर निकली और दोनों को अपने चपेट में ले लिया। हादसे में देवी जोजो की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि युवक मनोज गोप वहीं तड़प रहा था। इसी दौरान रूंगटा माइंस के एम्बुलेंस से मनोज गोप को राजनगर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया। जहां डॉक्टरों ने जांचोपरांत मृत घोषित कर दिया। इसके बाद 108 एम्बुलेंस से देवी जोजो के मृत शरीर को सीएचसी राजनगर पहुंचाया गया। इधर, पुलिस ट्रैक्टर को जब्त कर फरार चालक की तलाश कर रही है।

दूसरा डोज लेने के बाद 13 को दिल्ली जाने वाला था मनोज

मनोज गोप मैन लिफ्टिंग का काम करता था। मनोज के पिता शम्भू गोप ने बताया कि वह गुरुकुल संस्था से प्रशिक्षण लेकर मैन लिफ्टिंग क्रेन का चालक बना। दो महीने पहले ही झरसुगोड़ा से घर आया था। 13 अक्टूबर को मनोज दिल्ली में काम के लिए जाने वाला था। उसके लिए टिकट भी कटा रखा था। दूसरा डोज लेने के बाद दिल्ली जाता। मनोज शम्भू का बड़ा बेटा था। इधर देवी जोजो की पांच बच्चे हैं। उसका पति अक्सर बीमार रहता है। देवी जोजो सीएचसी राजनगर में सहिया साथी के रूप में कार्यरत थी। वह काफी सक्रिय सहिया थी। गेडेसाई के शम्भू गोप के परिवार के साथ देवी जोजो के परिवार का घरेलू सम्बंध था। शम्भू के बच्चे देवी को फूल मां कह कर बुलाते थे। दोनों परिवार के बीच अच्छा रिश्ता था। इसलिए बच्चे आना जाना करते थे। इसी कारण रविवार को वैक्सीन दिलाने खुद देवी जोजो भी मनोज के साथ जा रही थी।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker