ताज़ादुनियान्यूज़राजनीतिराष्ट्रीय

विपक्षी दलों ने 27 सितम्बर के भारत बंद को सफल बनाने का लिया फैसला

26 सितंबर को यज्ञ मैदान से मशाल जुलूस निकालने का लिया निर्णय

दुमका (झारखण्ड) : विपक्षी दलों के आह्वान पर दुमका जिला में गैर भाजपा दलों ने किसानों के लगभग 9 माह से जारी किसान आंदोलन के समर्थन में 27 सितंबर को भारत बंद को सफल बनाने का निर्णय लिया है। माकपा के राज्य कमेटी के सदस्य एहतेशाम अहमद ने सभी विपक्षी दलों की आहूत बैठक के बाद बताया कि पिछले करीब 9 माह से चल रहे किसान आंदोलन के क्रम में अभी तक लगभग 665 किसानों के शहादत के बजह से आंदोलन का विस्तार एवं धारदार हो गया है। किसान मजदूर विरोधी केंद्र सरकार अपनी हठधर्मिता से बाज नहीं आ रही है। उन्होंने कहा कि जनविरोधी मोदी सरकार खेती के साथ रेल, बैंक, बेशकीमती प्राकृतिक संसाधन अस्पताल आदि तमाम सार्वजनिक क्षेत्रों को निजी हाथों में और अपने चहेते अमीर मित्रों के हवाले करने में अमादा है। वही, आम जनों के हितों में चल रहे किसान आंदोलन को तरह तरह से बदनाम करने की साजिश कर रही है।

इसी क्रम में 27 सितंबर को आयोजित भारत बंद कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए शुक्रवार को दुमका परिसदन में मजदूर किसान संयुक्त मोर्चा के साथ-साथ कांग्रेस, सीपीएम सीपीआई माले एवं विभिन्न ट्रेड यूनियनों के नेताओं की बैठक आहूत राज्य इसकी तैयारी के लिए 25 सितंबर को जनसंपर्क एवं वीर कुंवर सिंह चौक, दुधनी चौक पर संयुक्त दलों के सभा के साथ 26 सितंबर को स्थानीय यज्ञ मैदान से मशाल जुलूस निकालने का निर्णय लिया गया । 27 सितंबर को आवश्यक चीजों को छोड़ संपूर्ण भारत बंद रहेगा।

संयुक्त बैठक में कांग्रेस के जिला अध्यक्ष श्यामल किशोर सिंह एवं प्रेम कुमार साह, महेश राम चंद्रवंशी, सीपीआईएम के जिला सचिव सुभाष हेंब्रम, किसान सभा के जिला सचिव देवी सिंह पहाड़िया, सीआईटीयू के नेता अखिलेश कुमार झा भाकपा माले के कॉमरेड तारिणी प्रसाद, कॉमरेड हवेलि यस सोरेन फॉरवर्ड ब्लॉक से विद्या मांझी आदि दर्जनों सभी दलों के कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker