ताज़ादुनियान्यूज़राष्ट्रीय

समाज को बांटने की नीति अधिक दिन नहीं चलेगी,काठ की हांडी दुबारा नहीं चढ़ेगी:दीपक प्रकाश

समाज को बांटने की नीति अधिक दिन नहीं चलेगी,काठ की हांडी दुबारा नहीं चढ़ेगी:दीपक प्रकाश

दुमका,(झारखंड):विधानसभा में एक समुदाय विशेष की इबादत के लिए कमरा आवंटित किये जाने के विरोध में भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश इकाई की ओर से सोमवार को महा धरना का आयोजन किया गया। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष राज्यसभा सांसद दीपक प्रकाश के नेतृत्व में स्थानीय इंडोर स्टेडियम में आयोजित महाधरना में दुमका के सांसद सुनील सोरेन, पूर्व मंत्री डॉ लुईस मरांडी, पूर्व विधायक देवेंद्र कुंवर, महिला मोर्चा की प्रदेश उपाध्यक्ष अमिता रक्षित, जिलाध्यक्ष निवास मंडल के साथ काफी तादाद में पार्टी कार्यकर्ता शामिल हुए। इस मौके पर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष व राज्यसभा सांसद दीपक प्रकाश ने राज्य ने राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन सरकार के निर्देश पर विधानसभा अध्यक्ष के आदेश पर एक विशेष समुदाय के लिए विधानसभा परिसर में कमरा आवंटित किये जाने पर विधानसभा अध्यक्ष से अपने आदेश को अविलंब वापस ले अथवा सभी समुदाय के प्रतिनिधि के लिए अलग-अलग कमरा आवंटित करने की मांग की। दीपक प्रकाश ने राज्य सरकार पर हर मोर्चे पर विफल होने का आरोप लगाते हुए कहा कि शिक्षा,चिकित्सा, स्वास्थ्य सड़क सहित सभी मामले में राज्य सरकार विफल रही है और अपनी विफलताओं से जनता का ध्यान हटाने के लिए इस तरह का तुगलकी फरमान जारी कर राज्य की जनता को दिग्भ्रमित कर रही है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार कोराना वैक्सीन का उपयोग करने के साथ प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजनाओं को क्रियान्वित करने को लेकर गंभीर नहीं रही है। उन्होंने इसी क्रम में कहा कि मुंगेरी लाल के हसीन सपने दिखा कर सत्ता में आयी हेमंत सोरेन सरकार के मंसूबे व क्रियाकलापों को जनता देख रही है। काठ की हांडी दुबारा नहीं चढ़ेगी। एक समुदाय के इबादत के लिए कमरा आवंटित किये जाने के आदेश वापस नहीं लिया गया अथवा अन्य समुदाय के जनप्रतिनिधियों के लिए अलग-अलग कमरा आवंटित नहीं किया गया तो 8 सितंबर को विधानसभा का घेराव किया जायेगा। इसके बाद पार्टी की ओर से महामहिम राज्यपाल को इससे संबंधित ज्ञापन सौंपा जायेगा। उन्होंने पूछने पर बताया कि सामूहिक निर्णय के आधार पर ज़रुरत पड़ी तो न्यायालय का दरवाजा भी खटखटाया जा सकता है। इससे पहले दुमका के सांसद सुनील सोरेन ने कहा कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की महागठबंधन सरकार ने तुष्टिकरण की राजनीति के तहत इस तरह का तुगलकी फरमान जारी कर लोकतंत्र के मंदिर को बदनाम करने का प्रयास किया है जो समूचे देश में इस तरह की पहली घटना है। उन्होंने आरोप लगाया कि वोट बैंक की राजनीति के तहत राज्य की महागठबंधन सरकार जाति, धर्म व सम्प्रदाय की राजनीति कर समाज को बांटने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि झामुमो भाजपा पर जाति व धर्म की राजनीति करने का आरोप लगाती है लेकिन राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की सरकार के इस फैसले से स्पष्ट हो गया है कि झामुमो जाति और धर्म की राजनीति कर समाज को बांटने का प्रयास कर रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि झामुमो की नेतृत्व वाली हेमंत सोरेन सरकार ने आदिवासियों के साथ सभी वर्ग के लोगों के साथ धोखा दिया है। उन्होंने कहा कि इस आदेश को वापस नहीं लिया गया तो समूचे राज्य में भाजपा व्यापक आंदोलन शुरू करेगी। धरना कार्यक्रम में पूर्व मंत्री डाक्टर लुईस मरांडी ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन सरकार पर खनिज सम्पदा की लूट कर अपने परिवार की सम्पत्ति बढ़ाने का आरोप लगाते हुए कहा कि वर्तमान सरकार को जनता के हितों से कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने राज्य सरकार पर तुष्टिकरण की नीति अपनाने का आरोप लगाते हुए लोगों को इस सरकार के प्रति सचेत रहने का आह्वान किया।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker