ताज़ादुनियान्यूज़मनोरंजनराष्ट्रीय

साहब! जरा विक्षिप्त महिला की करुण पुकार सुन इलाज से लौटा दीजिए उसकी खुशियां

साहब! जरा विक्षिप्त महिला की करुण पुकार सुन इलाज से लौटा दीजिए उसकी खुशियां

सिर पर कपड़े की गठरी लिए दिन भर सड़कों पर दौड़ती रहती है विक्षिप्त महिला

छोटे बच्चे परेशान करने के उद्देश्य से फेकते हैं विक्षिप्त महिला पर कंकड़-पत्थर

प्रतिकार स्वरूप महिला भी बड़े-बड़े पत्थर बिना देखे फेंकने लगती है जिससे कई वाहनों के शीशे टूटे और कई लोग हो चुके हैं चोटिल

लातेहार (झारखंड) : सिर पर रद्दी कपड़ों से भरी बोरी तन पर मैला कुचला कपड़ा पहन कर दिन भर सड़कों पर दौड़ने वाली विक्षिप्त महिला बीते दो माह से लोगों के लिए परेशानी का सबब बन गई है। ढाबों व होटलों के बाहर फेंके गए कचरे से चुनकर अपने पेट की भूख मिटाने वाली इस विक्षिप्त महिला पर तरस खाकर एक छोटा होटल (खाने-पीने की दुकान) चलाने वाले सुदामा प्रसाद उसे रोजाना खाना दे देते हैं। ताकि वह भूख की वजह से मर न सके। इस विक्षिप्त महिला पर छोटे बच्चे चिढ़ाने के उद्देश्य से कंकड़ फेंकते हैं तो यह विक्षिप्त महिला प्रतिकार स्वरूप बड़े-बड़े पत्थर फेंकने लगती है। जिससे कई वाहनों के शीशे टूट चुके हैं और कई लोग चोटिल भी हो चुके हैं। यह क्रम यहां की सड़क पर हर दिन देखने और सुनने को मिलता है, लेकिन मामले पर कोई संज्ञान नहीं लेता।

लोकप्रियता का तमगा हासिल करने वाले पदाधिकारी भी उदासीन 

जिले के चंदवा थाना क्षेत्र में घूमने वाली इस विक्षिप्त महिला पर सरकारी पदाधिकारियों की उदासीनता है। सामाजिक कार्यों में भागीदारी दिखाकर कुछ पुलिस पदाधिकारी को उनके पद के पहले लोकप्रिय कहकर संबोधित किया जाता है। लेकिन थाने से गश्ती आदि कार्यों के लिए आवागमन करने के दौरान इस विक्षिप्त महिला की स्थिति पर उन्हें भी तरस नहीं आता। जबकि मेडिकल क्षेत्र से जुड़े लोगों का कहना है कि इस महिला की चिकित्सा करा दी जाए तो यह महिला अब भी पूरी तरह ठीक हो सकती है।

अचानक क्रंदन से सहम उठते हैं राहगीर 

एंबीशन कंप्यूटर सेंटर संचालक मोहिनीश कुमार विक्की, टेक्निकल कंप्यूटर सेंटर संचालक दीपक कुमार, समाजसेवी भाेला गुप्ता, हरिओम प्रिंटिंग प्रेस संचालक अमित कुमार, आशीर्वाद इलेक्ट्रिक दुकान संचालक मनोज कुमार, लिट्टी विक्रेता संतोष जोशी, निशु इलेक्ट्रिक दुकान संचालक किशोर अग्रवाल समेत अन्य युवकों ने बताया कि विक्षिप्त महिला लोगों पर पत्थर फेंकने के अलावा अचानक सड़क पर बैठकर दहाड़ मारकर रोने लगती है। महिला के अचानक क्रंदन से स्थानीय लोगों के साथ राहगीर तक सहम उठते हैं। युवकों ने प्रशासन से महिला का इलाज कराए जाने की मांग प्रशासन से की है।

मानें इंडिया प्राइम न्यूज की खास अपील 

विक्षिप्त महिला को नुकसान न पहुंचाएं और उसके साथ गलत व्यवहार न करें। जब तक महिला को इलाज के लिए सरकारी पदाधिकारी नहीं ले जा पाते हैं तब तक खुद सुरक्षित रहते हुए विक्षिप्त महिला की भी सुरक्षित रहे इसकी चिंता सबकी जिम्मेवारी है। विक्षिप्त महिला के बारे में उसके परिजनों तक जानकारी पहुंचाने का प्रयास करें और महिला के परिजनों की जानकारी प्रशासन को दें। यदि ऐसा कर पाने में सफलता मिलती है तो समझ लीजिए हमलोगों ने निष्ठापूर्वक अपनी इंसानियत के धर्म पालन की जिम्मेवारी का निर्वहन कर लिया।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker